Sun. Oct 20th, 2019

TheHindiKhabar

Hindi Khabar

उन्नावः हादसा या साजिश? ट्रक मालिक की बेतुकी दलील, फायनेंसर की वजह से नंबर प्लेट पर कालिख पोती

1 min read

“ट्रक को फाइनेंस कराया था और जिनसे यह फाइनेंस कराया था, उनके रुपये बाकी थे। जिसकी वजह से वे ट्रक को पहचान न लें, इसलिए ट्रक के नंबर प्लेट पर कालिख पोत दिया था”। यह कहना उस ट्रक मालिक का जिसकी ट्रक से उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की कार को टक्कर लगी। जिसमें पीड़िता के दो परिजनों की मौके पर ही मौत हो गई और पीड़िता गंभीर रूप से घायल हो गई।

ट्रक मालिक के इस हल्के बयान के बाद इस मामले में जताई जा रही साज़िश की आशंका को और बल मिला है। सोशल मीडिया पर लोग ट्रक मालिक द्वारा सफाई में दिए गए इस बयान को बेतुका बताते हुए मज़ाक उड़ा रहे हैं। पत्रकार उमाशंकर सिंह ने भी ट्रक मालिक के बयान पर तीखा तंज़ किया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “EMI पर कार लेने वालों, लोन चुकाने में दिक़्क़त हो रही हो तो नंबर प्लेट पर कालिख पुतवा लें”। 

यह भी पढ़ें  यूपी में महिला वकील की हत्या, पत्रकार को पुलिस ने पीटा लेकिन डिबेट में ‘हिंदू-मुस्लिम’ चल रहा है

बता दें कि बीते कल रायबरेली स्थित गुरबख्श गंज इलाके में एक ट्रक ने उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की कार को टक्कर मार दी थी। जिसमें पीड़िता की चाची, मौसी और ड्राइवर की मौके पर ही मौत हो गई थी और पीड़िता भी गंभीर रूप से घायल हो गई थी।

हादसे के बाद पीड़िता की बहन ने मीडिया से बात करते हुए आरोप लगाया कि इस घटना को किसी और ने नहीं बल्कि खुद विधायक के आदमियों ने अंजाम दिया है। पुलिस इस मामले की जांच में लगी हुई है। मगर इस एक्सीडेंट पर सवाल उठने लगे है और विपक्षी दल अब सीबीआई जांच की मांग करने लगे है।

यह भी पढ़ें  PM मोदी पर गंभीर आरोप, पूर्व BJP चीफ़ जन कृष्णामूर्ति के निधन के बाद हड़पी उनकी ज़मीन

गौरतलब हो कि उन्नाव गैंगरेप पीड़िता ने आरोप लगाया था कि बांगरमऊ से विधायक कुलदीप सेंगर ने उसके साथ 4 जून, 2017 को अपने आवास पर दुष्कर्म किया था। जहां वो अपने एक रिश्तेदार के साथ नौकरी मांगने के लिए गई थी। जिसके बाद सेंगर के खिलाफ उन्नाव के माखी थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 363, 366, 376, 506 और पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था।

शासन ने इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की अनुशंसा की थी, जिसे एजेंसी ने स्वीकार कर लिया था। बता दें कि उन्नाव के अलग-अलग विधानसभा सीटों से चार बार विधायक रहे कुलदीप सिंह सेंगर और उनके भाई अतुल सिंह इस मामले में 2018 से जेल में हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

October 2019
M T W T F S S
« Jul    
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031